Goswami Tulsidas

कविता करके तुलसी न लसे,
कविता लसी पा तुलसी की कला ।

पड़ाव

और इन सबके बीच
एक दिन
कुछ समय निकालकर
मैं भी कवितायें लिखना छोड़ दूँगा!